कार्यक्षमता

जब लोग कहते हैं कि आप ये काम नहीं कर सकते तो वे अपनी सीमा बताते हैं, आपकी नहीं। 

पारदर्शिता

अपने व्यवहार में पारदर्शिता लाएं। अगर आप में कुछ कमियां हैं भी, तो उन्हें छिपाएं नहीं। क्योंकि ईश्वर के सिवाय कोई भी पूर्ण नहीं है। 

कविता

वैसे भी जिस दुनियां में लिखी जाएंगी बेहतर कविताएं। वही होगी बेहतर दुनियां। शब्द और अर्थ नहीं है कविता। सबसे सुंदर सपना है सबसे अच्छे आदमी का। --- कुमार कृष्ण 

आलोचना

आलोचना से बचने का बस एक ही तरीका है कुछ मत करो, कुछ मत कहो और कुछ मत बनो। 

सन्देह

जिस क्षण आप यह संदेह करते है कि आप उड़ सकते हैं या नहीं , हमेशा के लिए ऐसा कर पाने की क्षमता खो देते हैं। 

हार

किसी भी काम में या तो आप जीतते हैं या फिर सीखते है। इसमें हार की कोई जगह नहीं होती। 

ज्ञान

प्रकृति, अपरिमित ज्ञान का भंडार है, परंतु उससे लाभ उठाने के लिए अनुभव आवयश्क है। 

अव्यवस्थित

अव्यवस्थित रहना जीवन का ऐसा दुरुपयोग है, जो दरिद्रता में वृद्धि कर देता है

चिंता व डर

मनुष्य की सभी चिंताएं औए डर उसकी इच्छाओं का परिणाम है, इच्छा को सिर्फ विवेक से नियंत्रित कर सकते है। 

सीख

काम करते समय जो गलतियां हो, उन्हें भले ही भूल जाएं पर इस दौरान मिली सीख हमेशा याद रखी जानी चाहिए।