सच

सच हज़ार ढंग से कहा जा सकता है फ़िर भी हर ढंग सच हो सकता है! --विवेकानंद

कोई टिप्पणी नहीं: