प्रेम


मनुष्‍य क्रोध को प्रेम से , पाप को सदाचार से, लोभ को दान से और झूठ को सत्‍य से जीत सकता है। --गौतम बुद्ध

एक टिप्पणी भेजें