जीत

जो आदमी मृत्यु को जीत सकता या जीत लेता है वही प्रेम को मस्तक पर धारण करता है!-- बंकिमचन्द्र चटोपाध्याय

कोई टिप्पणी नहीं: