आनन्‍द

विश्‍व में हमारा आनन्‍द इस बात पर निर्भर है कि हम औरों के  हृदय  में कितना प्रेम संचारित कर सकते हैं।  --डचैस डि प्रैसलियर 
एक टिप्पणी भेजें