विपति

विपति से बढ़कर तजुर्बा सिखने वाला कोई विद्यालय आज तक नहीं खुला। -- प्रेमचन्‍द 

कोई टिप्पणी नहीं: