प्रसन्‍नता

जैसे सूर्योदय होते ही अंधकार दूर हो जाता है, वैसे ही मन की प्रसन्‍नता से सारी बाधाएं शांत हो जाती है।-- वाल्‍मीकि 
एक टिप्पणी भेजें