रोष या घृणा

किसी भी ग़लत ढांचे या नीति से रोष या घृणा पैदा होना अपने आप से जीवन की निशानी है। -- अमृता प्रीतम 
एक टिप्पणी भेजें