नसीहतें

जो नसीहतें नहीं सुनता , उसे लानत मलामत सुनने को मिलती है ! शेख सादी

कोई टिप्पणी नहीं: