कार्य

जीवन में ऐसा कार्य करो कि परिवार, गुरू और परमात्‍मा तीनों तुमसे खुश रहे।-- स्‍वामी ज्‍योतिनंद

कोई टिप्पणी नहीं: