राज्‍य

कोई भी राज्‍य प्रज्ञा पर कितना ही गरम क्‍यों न हो जाए, उसे अंत में ठंडा होना ही पडे़गा।-- सरदार पटेल 
एक टिप्पणी भेजें