मंगलवार, जुलाई 12, 2011

प्रसन्‍नचित

प्रसन्‍नचित व्‍यक्ति कभी अपने कर्म में असफल नहीं होता।-- शेख सादी
एक टिप्पणी भेजें