विजय

जब तक मन नहीं जीता जाता, राग-द्वेष शांत हीं होते , तब तक मनुष्‍य इंद्रियों का गुलाम बना रहता है।-- विनोबा भावे
एक टिप्पणी भेजें