विद्वान पुरुष

अथर्ववेद में कहा गया है, ‘उत देवाअवहितं देवा उन्नयथा पुनः। उतागश्चक्रुषं वा देव जीवयथा पुनः॥’ अर्थातहे दिव्य गुणयुक्त विद्वान पुरुषोआप नीचे गिरे हुए लोगों को ऊपर उठाओ। हे देवोअपराध और पाप करने वालों का उद्धार करो। हे विद्वानोपतित व्यक्तियों को बार-बार अच्छा बनाने का प्रयास करो। हे उदार पुरुषोजो पाप में प्रवृत्त हैंउनकी आत्मज्योति को जागृत करो।
एक टिप्पणी भेजें