मन

मन ही मनुष्‍य के बंधन और मोक्ष का कारण है। विषयासक्‍त मन बंधन के लिए है और निर्विषय मन मुक्‍त हो जाता है। -- ब्रहबिंदु उपनिष्‍द
एक टिप्पणी भेजें