प्रकृति

यदि हम प्रसन्‍न है तो सारी प्रकृति ही हमरे साथ मुस्‍कराती प्रतीत होती है। -- स्‍वेट मार्डेन
एक टिप्पणी भेजें