बुधवार, जुलाई 20, 2011

त्‍याग

मौजूदा सुख को त्‍यागकर भविष्‍य के सुख की उम्‍मीद करना बुद्धिमानों की नीति नहीं । -- वेद व्‍यास
एक टिप्पणी भेजें