विश्‍वास

यदि समाज को विश्‍वास हो जाए कि आप सच्‍चे सेवक है तो वह पीछे चलने के तैयार रहता है। --- प्रेमचन्‍द

कोई टिप्पणी नहीं: