रूप

हमारे सामने समाज का आज जो रूप है वह न जाने कितने त्‍याग का रूप है। -- हजारी प्रसाद द्विवेदी

कोई टिप्पणी नहीं: