क्रोध

जो मन की पीड़ा को स्‍पष्‍ट रूप से नहीं कह सकता उसी को क्रोध आता है। --  रवीन्‍द्रनाथ ठाकुर

कोई टिप्पणी नहीं: