मन

मन सभी प्रवृतियों का अगुआ है । यदि कोई दूषित मन से कटु वचन बोलता है दूषित कर्म करने को तत्‍पर रहता है  तो दुख भी उसका अनुसरण करने लगता है। -- धम्‍मपद
एक टिप्पणी भेजें