मंगलवार, अगस्त 09, 2011

मद्य

सुरा- मेरय मज्‍ज पमादष्‍ठाना बरमणी सिक्‍खापदं समादियामि
शराब मद्य तथा अन्‍य नशीले पदार्थों का सेवन मानव के पास ज्ञान विवेक को फटकने नहीं देता। --

एक टिप्पणी भेजें