स्‍वभाव

किसी मनुष्‍य का स्‍वभाव ही उसे विश्‍वसनीय बनाता है, न कि उसकी सम्‍पति। -- अरस्‍तू

कोई टिप्पणी नहीं: