बल

जिसकी भुजाओं में बल न हो, उसके मस्तिष्‍क में तो कुछ होना चाहिए। -- जयशंकर प्रसाद

कोई टिप्पणी नहीं: