लज्जा

लज्जा से रहित व्यक्ति ही स्वार्थ का साधक होता है। - कर्णपूर

कोई टिप्पणी नहीं: