वाणी मधुर

वाणी मधुर हो तो सब कुछ वश में हो जाता है अन्यथा सब शत्रु बन जाते है। - शेख सादी

कोई टिप्पणी नहीं: