गुरुवार, सितंबर 22, 2011

देश

ऐसे दे श को छोड़ देना चाहिए जहां न आदर है न जीविका न मित्र न परिवार और न ही ज्ञान की आशा। -- विनोबा भावे
एक टिप्पणी भेजें