कर्म

कर्म को सचेत हो कर और सोच समझ कर विवेक द्वारा करना चाहिए अन्‍यथा हानि होती है।--- महात्‍मा गांधी

कोई टिप्पणी नहीं: