साधक

जो प्रशंसा के क्षणों में अपना होश बनाए रख सकता है असल में वही साधक है । -- स्‍वामी रामतीर्थ

कोई टिप्पणी नहीं: