महानता

अभिप्राय में उदारता कार्य सम्‍पादन में मानवता सफलता में संयम इन्‍ही तीन गुणों से मानव महान बन जाता है। -- विस्‍मार्क

कोई टिप्पणी नहीं: