पहलू

जीवन की दुर्घटनाओं में अक्‍सर बड़े महत्‍व के नैतिक पहलू छिपे हुए होते है। --- प्रेमचन्‍द

कोई टिप्पणी नहीं: