लक्ष्‍य

उठो जागो और तब तक नहीं रूको जब तक लक्ष्‍य ना प्राप्‍त हो जाए। --- स्‍वामी विवेकानन्‍द

कोई टिप्पणी नहीं: