सोमवार, नवंबर 21, 2011

आश्‍चर्य

संसार के आश्‍चर्य और वैचित्र्य  को बुद्धि से नहीं आत्‍मा से जानो। --- विनोबा भावे 
एक टिप्पणी भेजें