कर्म

सारा विश्‍व कर्मों की प्रधानता पर अधारित है, जो जैसा कर्म करता है, वैसा ही परिणाम स्‍वरूप फल पाता है। --- रामचरित मानस 

कोई टिप्पणी नहीं: