निश्‍चय

वह व्‍यक्ति जो अपने निश्‍चय में दृढ और अटला होता है, वह संसार को अपने सांचे में ढाल सकता है। --- गेटे 

कोई टिप्पणी नहीं: