शनिवार, फ़रवरी 04, 2012

आनंद

जितना हम अपने आनंद को बांटते है उतना वह बढ़ता है। और ख्‍याल रखें जब आप दुख में होते है तो सिकुड़ जाते है। --- ओशो
एक टिप्पणी भेजें