मंगलवार, फ़रवरी 07, 2012

शिक्षक

जब तक जीना तब तक सीखना । यानी अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्‍ठ शिक्षक है। ---- स्‍वामी विवेकानंद
एक टिप्पणी भेजें