दूसरा रास्ता

अपने दुश्मनों को माफ कर दो--यदि उन तक पहुंचने का तुम्हारे पास कोई दूसरा रास्ता नहीं है तो।--- फ्रैंकलिन पी जोंस 

कोई टिप्पणी नहीं: