दुर्लभ

दुर्लभ कुछ भी नहीं यदि उत्साह का साथ न छोडा जाए!-- महार्षि वाल्मीकि

कोई टिप्पणी नहीं: