मंगलवार, जून 26, 2012

अच्छी बात

पहले हर अच्छी बात का मजाक बनता है फिर उसका विरोध होता है और फिर उसे स्वीकार कर लिया जाता है
 - स्वामी विवेकानन्द
एक टिप्पणी भेजें