स्‍वतंत्रता

स्‍वतंत्रता का कोई मतलब नहीं है अगर उसमें गलतियों करने की आज़ादी शामिल नहीं हैं। --- महात्‍मा गांधी 

1 टिप्पणी:

Anubhav Mehta ने कहा…

कैसा स्वतंत्रता दिवस ??
किससे आजादी ??
किस बात की बधाई ??
इस बात पार खुश हों कि आज ही के दिन माँ भारती के शरीर को काटकर हमने मुल्लों को भेंट कर दिया ?
इस बात पर खुश हों कि हमारे खेत, नदियाँ, पहाड, जंगलों पर नाजायज रूप से कब्ज़ा करने के बाद भी मुल्ले इस देश के और टुकड़े करवाने के लिए दिन रात एक कर रहे हैं ?
इस बात पर खुश हों कि हिंदुओं के प्रथम पुरुष, मर्यादा पुरुषोत्तमभगवान श्री राम आज चीथड़े हो चुके टेंट के नीचे विराजमान हैं ?
इस बात पर खुश हों कि कैलाश पर्वत पर भगवान भोलेनाथ के दर्शन के लिएहमें चीन से वीजा लेना पड़ता है ?
इस बात पर खुश हों कि आजादी ने हमें SC/ST/OBC/ MINORITY जैसेकलंक दिए हैं ?
लोगों से विकास के समान अवसर छीनलिए हैं.
अन्नदाता किसान आत्महत्या कर रहाहै.
जंगलों के स्वामी आदिवासी खाने के आभाव में भूखे मर रहे हैं, बंदरों को मार कर और आम की गुठलियों को उबाल कर खा रहे हैं. क्या इस बात के लिए खुश हुआ जाए.
देश के दुश्मनों को सुप्रीम कोर्ट मौत की सजा सुनाता है, लेकिन ये तथाकथित लोकतंत्र और उसके नुमाइंदे उन अपराधियों को अमरत्व का वरदान दे देते हैं.
--------------- --------------- ------------
हम आजादी नहीँ मनायेँगे सिर्फ शहीदोँ को नमन करेँगे जो आजादी की चाह मेँ वतन के लिये कुर्बान हो गये —
Anubhav Mehta
Founder & Chairman - अनुभव मैहता - निर्माता व अध्यक्ष - at Young Star Nature Club Nankhari ( Shimla ) H.P 172021
Studied at SOL, University of Delhi
जमाने भर मे मिलते हैँ आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नही होता !
सोने मे भी लिपट मरे शासक कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नही होता..!
कोई शराब के नशे मेँ चूर होता है
कोई शबाब के नशे मेँ मजबुर होता है
कोई नाज करता है अपनी दोलत ए शोहरत पे
हमेँ तो अपनी देशभक्ति के नशे परगुरुर होता है
Anubhav Mehta
ॐ जय माता दी ॐ जय माता दी ॐ जय माता दी ॐॐ जय नाग देवता ननख़री ॐ LORD JAI NAAG DEVTA NANKHARI ॐ जय नाग देवता ननख़रीॐ
I really appreciate you
Your helpful, giving ways
And how your generous heart
Your unselfishness displayed -
I'm glad I met you on net .
~ Thank You
अभी तक पाँव से लिपटी हैँ जंजीरेँ गुलामी की
दिन आ जाता है आजादी का लेकिन आजादी नहीँ आती