गुरुवार, अगस्त 09, 2012

कर्म

कर्म वह आइना है जो हमारा स्‍वरूप हमें दिखा देता है। इसलिए हमें कर्म का अहसानमंद होना चाहिए।--- विनोबा भावे
एक टिप्पणी भेजें