बुधवार, सितंबर 19, 2012

नीति

नीति के विरूद्ध कोई काम करने का फल अपने तक नहीं रहता दूसरों पर उसका और भी बुरा असर पड़ता है। --- प्रेमचंद
एक टिप्पणी भेजें