मान्‍यता

यदि तुम चाहते हो कि लोग तुम्‍हारे गुणों की प्रशंसा करें तो दूसरों के गुणों को मान्‍यता दें। ---- चाणक्‍य 
एक टिप्पणी भेजें