निर्माण

गुण एकांत में अच्‍छी तरह विकसित होते है लेकिन चरित्र का निर्माण संसार के भीषण कोलाहल में होता है। --- गेटे

कोई टिप्पणी नहीं: