शुक्रवार, दिसंबर 28, 2012

तप

यह समझ लेना चाहिए  कि विनय बिना और अभिमान  के साथ किया हुआ बड़ा तप व्यर्थ  ही होता है ! --- अज्ञात 
एक टिप्पणी भेजें