AddThis Smart Layers

.
We ♥ feedback

पाप

यदि मनुष्‍य पाप कर भी ले तो पुन: न दोहराये, न उसे छुपाये और न ही उसमें रत हो। पाप का संचय ही सब दु:खों का मूल है। --- गौतम बुद्ध 

Comments :

0 COMMENTS to “पाप”

Cool Labels by CBT

आगमन संख्‍या

कुल पेज दृश्य

 
ब्लोगवाणी ! चिठाजगत ! INDIBLOGGER ! BLOGCATALOG ! NetworkedBlogs ! INDLI ! VOICE OF INDIANS

Copyright © 2009 by "ऐसी वाणी बोलिए..........." ! Template by Blogger Templates | Powered by Blogger ! QUATATIONS !

| !