गुरुवार, दिसंबर 06, 2012

अध्‍ययन

हम जितना ज्‍यादा अध्‍ययन करते है उतना ही हमें अपने अज्ञान का आभास होता जाता है। --- शैली
एक टिप्पणी भेजें