आत्‍मविश्‍वास

आत्‍मविश्‍वास जैसा कोई मित्र नहीं है। जो आत्‍मविश्‍वास हम स्‍वयं अपने में रखते है उसका अधिकांश भाग उस विश्‍वास से उत्‍पन्‍न होता है जो हम दूसरों में रखते है। --- रोशफाउकाल्‍ड
एक टिप्पणी भेजें