ईश्‍वर

र्इश्‍वर मूर्तियों में नहीं आपकी भावनाओं में और आत्‍मा आपका मन्दिर है। --- चाणक्‍य 
एक टिप्पणी भेजें